Ishq Karne Ki Izazat De Do

चाँद सा चेहरा देखने की इजाज़त दे दो
मुझे ये शाम सजाने के इजाज़त दे दो

मुझे क़ैद करलो अपने इश्क़ में या
मुझे इश्क़ करने के इजाज़त दे दो


Chand Sa Chehra Dekhne Ki Ijazat De Do
Mujhe Ye Sham Sajane Ke Ijazat De Do

Mujhe Qaid Karlo Apne Ishq Main
Ya Mujhe Ishq Karne Ke Ijazat De Do


Ishq Karne Ki Izazat De Do
Ishq Karne Ki Izazat De Do

इश्क़ सभी को जीना सीखा देता है
वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है

इश्क़ नहीं क्या तो कर के देखो
ज़ालिम हर दर्द सहना सीखा देता है


Ishq Sabhi Ko Jeena Sikha Deta Hai
Wafa Ke Naam Par Marna Sikha Deta Hai

Ishq Nahi Kya To Kar Ke Dekho
Zalim Har Dard Sehna Sikha Deta Hai


इश्क़ वही है जो हो एक तरफ़ा
इज़हार-ए-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है

है अगर इश्क तो आँखों में देखो
ज़ुबान खोलने से ये नुमाइश बन जाती है..


Ishq Wahi Hai Jo Ho Ek Tarfa
Izhar e Ishq To Khwahish Ban Jaati Hai

Hai Agar Ishq To Aankho Mein Dekho
Zuban Kholne Se Ye Numaish Ban Jaati Hai..

Leave a Comment

Your email address will not be published.