Bheegi Palke Jhuka Lete Hai

हर ख़ुशी गम का ऐलान है
हर मुलाक़ात जुदाई का ऐलान है

ना रखा किसी से उम्मीद
हर उम्मीद दिल टूटने का फरमान है !!


Har Khushi Gam Ka Ailan Hai
Har Mulaqat Judai Ka Ailan Hai

Na Rakha Kisi Se Ummid
Har Ummid Dil Tutane Ka Farman Hai !!


Bheegi Palke Jhuka Lete Hai
Bheegi Palke Jhuka Lete Hai

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है
इस तरह जुदाई का गम मिटा लेता है

किसी तरह ज़िक्र हो जाये उनको तो
हस कर भीगी पलकें झुका लेता है


Unki Tasveer Ko Seene Se Laga Lete Hai
Is Tarah Judai Ka Gam Mita Leta Hai

Kisi Tarha Zikar Ho Jaye Unko To
Hass Kar Bheegi Palkein Jhuka Leta Hai


ज़माना बन जाए कागज़ का
और समंदर हो जाए स्याही का

फिर भी कलम लिख नहीं सकती
दर्द तेरी जुदाई का !!


Zamana Ban Jaye Kagaz Ka
Aur Samandar Ho Jaye Syahi Ka

Fir Bhi Kalam Likh Nahin Sakati
Dard Teri Judai Ka !!

Leave a Comment

Your email address will not be published.