Maut Hi Behtar Hai

हम तो बुरे नहीं हैं तो अच्छे ही कहाँ हैं,
दुश्मन से जा मिले हैं मुहब्बत के गुमां से,

वो दफ्न ही कर देते हमें आगोश में लेकर,
ये मौत भी बेहतर है जुदाई की सजा से


Ham To Bure Nahin Hai To Achchhe Hi Kahan Hai,
Dushman Se Ja Mile Hai Muhabbat Ke Guman Se,

Wo Dafan Hi Kar Dete Hame Agosh Mein Lekar,
Ye Maut Bhi Behatar Hai Judai Ki Saja Se.


Maut Hi Behtar Hai
Maut Hi Behtar Hai

महफ़िल बनी रही यही तुम्हारी
चाहे बिखर जाये ये ज़िन्दगी हमारी

दीवानगी इस कदर बढ़ गयी है
के सह न पायें एक पल जुदाई तुम्हारी


Mehfil Bani Rahi Yuhi Tumhari
Chahe Bikhar Jaye Ye Zindagi Hamari

Deewangi Is Qadar Barh Gayi Hai
Ke Sah Na Paye Ek Pal Judai Tumhari


किसी से जुदा होना इतना आसान होता तो,
रूह को जिस्म से लेने फ़रिश्ते नहीं आते।


Kisi Se Juda Hona Itana Asan Hota To,
Ruh Ko Jism Se Lene Farishte Nahin Ate.

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.