Har Koi Maksad Ka Talabgar Mila

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला,

अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई मकसद का तलबगार मिला।


Hame Na Mohabbat Mili Na Pyar Mila
Ham Ko Jo Bhi Mila Bewafa Yar Mila

Apani to Ban Gayi Tamasha Zindagi,
Har Koi Maksad Ka Talabgar Mila


Dhoka shayari with images
Har Koi Maksad Ka Talabgar Mila

सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं
दूर वो मुझसे हैं पर मैं खफा नहीं

मालूम है अब भी वो प्यार करते हैं मुझसे
वो थोड़ा सा जिद्दी है मगर बेवफा नहीं


Sab Kuchh Hai Mere Pas Par Dil Ki Dava Nahin
Dur Vo Mujhase Hain Par Main Khafa Nahi

Malum Hai Ab Bhi Vo Pyar Karate Hain Mujhase
Vo Thoda Sa Jiddi Hai Magar Bevafa Nahin


धोखा दिया था जब तूने मुझे
जिंदगी से मैं नाराज था

सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं
मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।


Dhokha Diya Tha Jab Tune Mujhe
Jindagi Se Main Naraj Tha

Socha Ki Dil SeTujhe Nikal Du
Magar Kambakht Dil Bhi Tere Pas Tha.

Leave a Comment

Your email address will not be published.