Kyo Tune Pyar Mein Dhoka Diya

क्यों तूने प्यार मैं धोखा दिया
क्यों ना सच्चा प्यार, मुझसे किया

खामियां कौन सी मुझमे थी
क्यों मेरी वफाओं का ऐसा सिला दिया


Kyo Tune Pyar Main Dhoka Diya
Kyo Na Sachha Pyar, Mujhse Kiya

Khamiya Kaun Si Mujhme Thi
Kyo Meri Wafaao Ka Aisa Sila Diya


Pyar me dhoka shayari in hindi
Kyo Tune Pyar Mein Dhoka Diya

लम्हा लम्हा सांसें खत्म हो रही हैं
ज़िन्दगी मौत के पहलू में सो रही है

उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है।


Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain
Zindagi Maut Ke Pehloo Mein So Rahi Hai

Us Bewafa Se Na Pucho, Meri Maut Ki Wajah
Wo To Zamaane Ko Dikhane Ke Liye Ro Rahi Hai


वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि;
जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं;
कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने;
फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।


Wo Nikal Gaye Mere Raaste Se Is Kadar Ki,
Jaise Ki Wo mujhe Pahechante Nahi

Kitne Jakhm Khaye Hai Mere Is Dil Ne
Fir Bhi Ham Us Bewafa Ko Bewafa Maante Hi Nahi

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *