Mohhabat Hame Jeena Sikha Deti Hai

मोहब्बत इंसान को जीना सिखा देती है,
बफा के नाम पर मरना सिखा देती है,
अगर मोहब्बत नही की तो करके देखना,
ये जालिम हर दर्द सहना सिखा देती है।


Mohhabat Insaan Ko Jeena Sikha Deti Hai,
Wafa ke Nam Par Marna Sikha Deti Hai,

Agar Mohhabat Nahi Ki to Karke Dekhna,
Ye Zalim Har Dard Ko Sahna Sikha Deti Hai


इस लफ़्ज़े-मोहब्बत का इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिले-आशिक़, फैले तो ज़माना है,

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना तो समझ लीजे,
एक आग का दरिया है और डूब के जाना है


Is Lafze-Mohabbat Ka Itana Sa Fasana Hai,
Simate To Dile-Ashiq, Faile To Zamana Hai,

Ye Ishq Nahi Asan Itana To Samajh Lije,
Ek Aag Ka Dariya Hai Aur Doob Ke Jana Hai.


Mohhabat Hame Jeena Sikha Deti Hai
Mohhabat Hame Jeena Sikha Deti Hai

अपनी जिंदगी में हमने तेरी जरूरत देखी है,
तेरी आँखों में हमने अपने लिए मोहब्बत देखी है,
जितनी बार खुद को भी नही देखा होगा,
उतनी बार हमने तेरी सूरत देखी है।


Apni Zindagi Main Hamne Teri Zarurat Dekhi Hai,
Teri Aankhon Main Hamne Apani Mohabbat Dekhi Hai

Jitni Bar Khud ko Nahi Dekha Hoga
Utani Baar Teri Surat Dekhi Hai


कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,

प्यार की आग में उसको इतना जला देंगे,
कि इजहार वो मुझसे सरे-बाजार करेगा।


Kab Tak Vo Mera Hone Se Inkar Karega,
Khud Toot Kar Wo Ek Din Mujhase Pyar Karega,

Pyar Ki Ag Mein Usako Itana Jala Denge,
Ki Ijahar Vo Mujhase Sare-Bajar Karega.

Leave a Comment

Your email address will not be published.