Tere Chahre Par Muskan Jaruri Hai

रोज साहिल से समंदर का नजारा न करो,
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो,

आओ देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो।


Roj Sahil Se Samandar Ka Najara Na Karo,
Apani Surat Ko Shabo-Roj Nihara Na Karo,

Aao Dekho Meri Najaro Mein Utar Kar Khud Ko,
Aina Hun Main Tera Mujhase Kinara Na Karo.


Tere Chahre Par Muskan Jaruri Hai
Tere Chahre Par Muskan Jaruri Hai

जब खामोश आँखों से बात होती है,
तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,

तेरे ही ख्यालों में खोये रहते हैं,
न जाने कब दिन और कब रात होती है।


Jab Khamosh Aankhon Se Baat Hoti Hai
To Eise Hi Mohhabt Ki Shuruat Hoti Hai,

Tere Hi Khyalo Me Khoye Rahte Hai,
Na Jaane Kab Din Aur Kan Raat Hoti Hai…


जिंदगी के लिये जान ज़रूरी है,
जीने के लिये अरमान ज़रूरी है,

हमारे पास हो चाहे कितना भी गम,
लेकिन तेरे चहरे पर मुस्कान ज़रूरी है।


Zindagi Ke Liye Zaan Jaruri Hai,
Jine Ke Liye Arman Jaruri Hai,

Hamare Paas Chahe Kitna Bhi Gam
Lekin Tere Chehre Par Muskan Jaruri Hai…


तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे हम सनम,
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे,

तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे,
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे।


Tere Bina Tut Kar Bikhar Jayenge Ham Sanam,
Tum Mil Gaye To Gulashan Ki Tarah Khil Jayenge,

Tum Na Mile To Jite Ji Hi Mar Jayenge,
Tumhe Jo Pa Liya To Mar Kar Bhi Ji Jayenge.

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *