Wo Apna Bana Lete Hai

आँखों से वो जब हम देखते है,
हम घबराकर आँखें झुका लेते है,
कौन मिलाये उन आँखों से आँखें
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते है


Ankho se wo jab hume dekhte hai,
hum ghabrakar ankhe jhuka lete hai,
kaun milaye un Ankhon se Aankhein
Suna hai wo Aankhon se apna bna lete hai


Wo Apna Bana Lete Hai
Wo Apna Bana Lete Hai

ना मुस्कुराने को जी चाहता है,
न आंसू बहाने को जी चाहता है,
तुम्हारी याद में और क्या कहे,
बस तुम्हारे पास आने को जी चाहता है !!


Na Muskurane Ko Ji Chahta Hai,
Na Aansu Bahane Ko Ji Chahta Hai,
Tumhari Yaad Mein Aur Kya Kahe,
Bas Tumhare Paas Aane Ko Ji Chahata Hai !!


मोहब्बत हर इंसान को आजमाती है,
किसी से रूठ जाती है किसी पे मुस्कुराती है,
मोहबत खेल ही ऐसा है
किसी का कुछ नहीं जाता और किसी की जान ही चली जाती है।


Mohabbat har Insan ko ajmati hai,
kisi se ruth jati hai kisi pe muskurati hai,
mohabat khel hi aisa hai
kisi ka kuch nahi jata aur kisi ki jaan hi chali jaati hai…

Leave a Comment

Your email address will not be published.