Gam Hi Mila Jeevan Mein

गम ही मिले इतने जीवन में,
की खुशियों को बुलाना भूल गए

हुआ तेरी जुदाई में ऐसा आलम,
की हम अपना ही ठिकाना भूल गए


Gam Hi Mile Itne Jeevan Mein,
Ki Khusiyon Ko Bulana Bhool Gaye,

Huya Teri Judai Mein Aisa Aalam,
Ki Ham Apnaa Hi Thikana Bhool Gaye.


Gam Hi Mila Jeevan Mein
Gam Hi Mila Jeevan Mein

महफ़िल लगी थी एक दूसरे को ग़म सुनाने की,
तो सभी अपने अपने ग़म सुनाने लगे

जब हमने शुरू किये सुनाने अपनी कहानी,
ना जाने क्यों सभी महफ़िल से जाने लगे


Mahfil Lagi Thi Ek Dusre Ko Gham Sunaane Ki,
Toh Sabhi Apne Apne Gham Sunane Lage,

Jab Hamne Shuru Kiye Sunane Apani Kahani,
Na Jaane Kyu Sabhi Mahfil Se Jaaane Lage.


अपने दिल के गम अब किसको सुनाये हम,
आपके बाद अब पास किसको बिठाये हम

बिन आपके तो अब एक भी पल नहीं कटता,
पड़ी है सारी उम्र बताओ, कैसे बिताएं हम


Apne Dil Ke Gam Ab Kisko Sunaye Ham,
Aapke Baad Ab Paas Kisko Bithaye Ham,

Bin Aapke To Ab Ek Bhi Pal Nahi Katataa,
Padi Hai Saari Umar Bataao, Kaise Bitayein Ham

Leave a Comment

Your email address will not be published.