Mujhe Apne Kareeb Samjhna

तकलीफ में मुझे उम्मीद समझना
कोई गम आये तो मुझे नज़दीक समझना

दे सकू कभी मुस्कराहट, आंसू के बदले
तो अपनों में मुझे सबसे करीब समझना


Takllif Me Muje Umeed Samajna
Koi Gam Aaye To Mujhe Kareeb Samajna

De Saku Kabhi Muskurahat, Aansu Ke Badle
To Apno Me Mujhe Sabse Karib Samajna


Mujhe Apne Kareeb Samjhna
Mujhe Apne Kareeb Samjhna

दिलो को गम की वजह न बनाओ
इसने तो आपको प्यार करना सिखाया है

कौन है हमारा इस दुनिया में इसके सिवा
यही है, जो हमको इतना करीब लाया है


Dilo Ko Gam Ki Wajah Na Banao
Isne To Aapko Pyar Karna Sikhaya Hai

Kon Hai Hamara Is Duniya Me Iske Siwa
Yahi Hai, Jo Humko Itna Karib Laya Hai


तेरे हसीन तसवीर का आसरा लेकर
दुखो की कंटे में सारे समेट लेता हूँ

तुम्हारा नाम ही काफी है राहत-ऐ-जान को
गमो की तेज़ हवाओं को मोड़ देता हूँ


Tere Hasin Tasawir Ka Aasra Lekar
Dukho Ki Kante Main Sare Samet Leta Hun

Tumara Naam Hi Kafi Hai Rahat-E-Jaan Ko
Gamo Ki Taiz Hawao Ko Modd Deta Hu

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.