Maar Dalegi Ye Judai

हमें ये मोहब्बत किस मोड़ पे ले आई,
दिल में दर्द है और ज़माने में रुसवाई,

कटता है हर एक पल सौ बरस के बराबर,
अब मार ही डालेगी मुझे तेरी जुदाई।


Hame Ye Mohabbat Kis Maud Pe Le Aayi
Dil Me Dard Hai, Aur Jamane Me Ruswayi

Katata Hai Har Ek Pal 100 Baras Ke Barabar
Aab Mar Hi Dalegi Mujhe Teri Judai



जीते थे कभी हम भी शान से,
महक उठी थी फ़िज़ा किसी के नाम से.

पर गुज़रे हैं हम कुछ ऐसे मुकाम से,
की नफरत सी हो गयी है मोहब्बत के नाम से


Jite The Kabhi Hum Bhi Shaan Se,
Mehek Uthi Thi Fiza Kisi Ke Naam Se.

Par Guzre Hain Hum Kuch Aise Mukam Se,
Ki Nafrat Si Ho Gayi He Mohabbat Ke Naam Se


आपका दुःख हम सह नहीं सकते
क्या करे मजबूर है , इसलिए कुछ कह नहीं सकते

हमारे गिरते आँसू पकड़ कर देखो
वह भी कहते है की हम आप के बिन रह नहीं सकते


Aapka Dukh Hum Sah Nahi Sakte
Kya Kare Majbur Hai , Isliye Kuch Keh Nahi Sakte

Humare Girate Aanshu Pakad Kar Dekho
Who Bhi Kehate Hai Ki Hum Aap Ke Bin Rah Nahi Sakte

Leave a Comment

Your email address will not be published.