Na Basana Dil Me Kisi Ko

रीत है जाने कैसे यह ज़माने की
जो सजा मिलती है दिल लगने की

न बसाना दिल मैं किसी को इतना
की फिर दुआ मांगनी पड़े भूलने की


Reet Hai Jane Kaisee Yeh Jamane Ki
Jo Saza Milti Hai Dil Laganne Ki

Na Basana Dil Main Kisi Ko Itna
Ki Phir Dua Mangni Pada Bhulane Ki


Na Basana Dil Me Kisi Ko
Na Basana Dil Me Kisi Ko

कभी कभी हमें भी याद कर लिया करो,
हमारी तस्वीर भी देख के चूम लिया करो,

माना कि तुम्हे किसी चीज़ की कमी नहीं है,
पर हमें भी कभी अपनी दुआ में शामिल किया करो..


Kabhi Kabhi Hamein Bhi Yaad Kar Liya Karo,
Hamari Tasveer Bhi Dekh Ke Choom Liya Karo,

Maana Ke Tumhe Kisi Cheez Ki Kami Nahin Hai,
Par Hamein Bhi Kabhi Apni Dua Mein Shamil Kiya Karo..


सोचा नहीं अच्छा बुरा, देखा सुना कुछ भी नहीं
माँगा ख़ुदा से रात दिन, तेरे सिवा कुछ भी नहीं


Socha Nahi Accha Bura, Dekha Suna Kuch Bhi Nahi.
Manga Khuda Se Raat Din, Tere Siwa Kuch Bhi Nahi.


किसी को चाहत की सजा मत देना
किसी को मोहब्बत में दग़ा मत देना,

जिसे तुम्हारे बगैर जीने की आदत न हो,
उसे कभी लम्बी उम्र की दुआ मत देना…


Kisi Ko Chahat Ki Saza Mat Dena
Kisi Ko Mohabbat Me Daga Mat Dena,

Jise Tumhare Bagair Jine Ki Adat Na Ho,
Use Kabhi Lambi Umar Ki Dua Mat Dena…

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.