Dhadkan Mein Tum Samane Lage

दिल ने किया मजबूर कुछ इस तरह के
ख्वाबो में भी तुम आने लगे
रात तो काटे नहीं कटती थी और अब तो
धड़कनो में भी तुम समाने लगे


Dil Ne Kiya Majboor Kuch Is Tarah Ke
Khwaboon Me Bhi Tum Aane Lage
Raat Toh Kaate Nahi Katati Thi Aur Ab To
Dharkano Me Bhi Tum Samaane Lage


Dhadkan Mein Tum Samane Lage
Dhadkan Mein Tum Samane Lage

तुम मेरे क्या हो कैसे कहूँ…
तुम मेरी जान हो कैसे कहूँ…
यूँ तो धड़कन हो मेरी धड़कनो के लिए
खुदा के भी खुदा हो कैसे कहूँ


Tum Mere Kya Ho Kaise Kahoon…
Tum Meri Jaan Ho Kaise Kahoon…
Yun To Dharkan Ho Meri Dharkano Ke Liye
Khuda Ke Bhi Khuda Ho Kaise Kahoon


उनसे अब यह दर्द के रिश्ते बन चुके है..
हम मर जाते पर सिर्फ उनके एक इशारे के लिए रुके है..
अगर खुश होते है हमे वो जलता देख…
तो हम उनकी इस ख्वाहिश के आगे भी झुके है


Unse Ab Yeh Dard Ke Rishte Ban Chuke Hai..
Hum Mar Jate Par Sirf Unke Ek Ishaare K Liye Ruke Hai..
Agar Khush Hote Hai Hume Wo Jalta Dekh…
To Hum Unki Iss Qwaahish Ke Aage Bhi Jhuke Hai

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.