Dil Ko Mohabbat Naseeb Nahi

कैसे समझाए इस पागल दिल को
के इसे किसी की मोहब्बत नसीब नहीं

जो नज़दीक है वो तो बेगाने है
और अपने तो इसके करीब ही नहीं


Kaise Samjaye Is Paagal Dil Ko
Ke Ise Kisi Ki Mohabbat Nasib Nahi

Jo Nazdik Hai Wo To Begane Hai
Aur Apne To Iske Karib Hi Nahi


Dil Ko Mohabbat Naseeb Nahi
Dil Ko Mohabbat Naseeb Nahi

मुझे दर्द-ऐ-इश्क का मज़ा मालूम है
दर्द-ऐ-दिल की इंतहा मालूम है

ज़िन्दगी भर मुस्कुराने की दुआ मत देना दोस्त
मुझे पल भर मुस्कुराने की सज़ा मालूम है


Mujhe Dard-E-Ishq Ka Maza Malum Hai
Dard-E-Dil Ki Intaha Malum Hai

Zindagi Bhar Muskurane Ki Dua Mat Dena Dost
Mujhe Pal Bhar Muskurane Ki Saza Malum Hai


अच्छा लगता है तेरी याद में जलते रहना
इश्क़ में गिर गिर के सम्भालते रहना

याद करना तुझे आलम-ऐ-तन्हाई में
और महफ़िल में तुझे दूर से तकते रहना


Accha Lagta Hai Teri Yaad Mein Jalte Rahena
Ishq Mein Gir Gir Ke Sambhaltay Rehna

Yaad Karna Tujhe Alam-E-Tanhai Mein
Or Mehfil Mein Tujhe Door Se Takte Rehna

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.