Ishq Bhi Kya Cheez Hai

ये इश्क़ भी क्या चीज़ है

वह इंकार करते हैं इकरार के लिए
नफरत भी करते हैं तो प्यार के लिए

उलटी चाल चलते हैं यह इश्क़ करने वाले
आँखें बंद करते हैं दीदार के लिए


Ye Ishq Bhi Kya Cheez Hai

Woh Inkar Karte Hain Ikrar Ke Liye
Nafrat Bhi Karte Hain To Pyar Ke Liye

Ulti Chaal Chalte Hain Yeh Ishq Karne Wale
Ankhein Band Karte Hain Didar Ke Liye


Ishq Bhi Kya Cheez Hai
Ishq Bhi Kya Cheez Hai

ना दिल से होता है, ना दिमाग से होता है;
ये प्यार तो इत्तेफ़ाक़ से होता है;

पर प्यार करके प्यार ही मिले;
ये इत्तेफ़ाक़ भी किसी-किसी के साथ होता है।


Na Dil Se Hota Hai, Na Dimag Se Hota Hai,
Ye Pyar to Ittefak Se Hota Hai

Par Pyar Karke Pyar Hi Mile
Ye Ittefak Bhi Kisi Kisi Ke Sath Hota Hai


प्यासी ये निगाहें तरसती रहती हैं;
तेरी याद में अक्सर बरसती रहती हैं;

हम तेरे ख्यालों में डूबे रहते हैं;
और ये ज़ालिम दुनिया हम पे हँसती रहती है।


Pyasi Ye Nigahe Tarasti Rahti Hai
Teri Yaad Me Aksar Barasti Raheti Hai

Ham Tere Khyalo Me Doobe Rahte Hai
Aur Ye Zalim Duniya Ham Par Hasti Raheti Hai

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *