Ham Kaynat Kho Baithe

मत खाओ कसमें सारी ज़िन्दगी साथ निभाने की

हमने सांसो को भी जुदा होते देखा है


Mat Khao Kasame Sari Zindagi Sath Nibhane Ki
Hum Ne Sanso Ko Bhi Juda Hote Dekha Hai


रब किसी को किसी पर फ़िदा न करे,
करे तो क़यामत तक जुदा न करे,

ये माना की कोई मरता नहीं जुदाई में,
लेकिन जी भी तो नहीं पाता तन्हाई में।


Rab Kisi Ko Kisi Par Fida Na Kare
Kare to Kamayat Tak Juda Na Kare

Ye Mana ki Koi Marta Nahi Judai Me
Lekin Jee Bhi to Nahi Pata Tanhai Me



जिंदगी की कश्ती कब लगे कौन से किनारे
कब मिलेंगी मनचली बहारें

जीना तो पड़ेगा ही कैसे भी प्यारे
कभी दोस्तों की भीड़ में कभी तन्हाई के सहारे !!


Jindagi Ki Kashti Kab Lage Kaun Se Kinare
Kab Milengi Manachali Baharen

Jina To Padega Hi Kaise Bhi Pyare
Kabhi Doston Ki Bhid Mein Kabhi Tanhai Ke Sahare !!


सुन लिया हम ने फैसला तेरा
और सुन के उदास हो बैठे

ज़हन चुप चाप आँख खाली जैसे
हम क़ायनात खो बैठे !!


Sun Liya Ham Ne Faisala Tera
Aur Sun Ke Udas Ho Baithe,

Zahan Chup Chap Ankh Khali Jaise,
Ham Qayanat Kho Baithe !!

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *