Dil Jalta Raha Judai Me

वो रुक्सत हुयी तो आँख मिलाकर नहीं गयी
वो क्यू गयी ये बताकर नहीं गई

लगता है वापिस अभी लौट आएगी
वो जाते हुए चिराग बुझा कर नहीं गयी


Wo Ruksat Huyi To Ankh Milakar Nahi Gayi,
Wo Q Gayi Ye Batakar Nahi Gyi

Lagta He Wapis Abhi Laut Ayegi
Wo Jate Huye Chirag Bujha kar Nahi Gayi



फुर्सत मिली जब हमको तो तन्हाई आ गयी,
गम भी आया साथ में रुस्वाई आ गयी,

इन सब से मिलने आँखों से आंसू भी आ गयी,
जब याद मेरे दिल को तेरी जुदाई आ गयी


Fursat Mili Jab Hmko To Tanhai Aa Gayi,
Gum bhi Aaya Sath Me Ruswai Aa Gayi,
In Sb Se Milne Ankhon Se Ansoo Bhi Aa Gayi,
Jb Yaad Mere Dil Ko Teri Judai Aa gyi…


कुछ बातें करके वो हमें रुला के चले गए
हम न भूलेंगे यह एहसास दिला के चले गए

आयेंगे कब वो अब तो यह देखना है उम्र भर
बुझ रही है वो आग जिसे वो जला कर चले गए।


Kuch Bate Karke Wo, Hame Rula Ke Chale Gaye
Ham Na Bhulenge Yeh Ehsas Dila Ke Chale Gaye

Aayenge Kab Wo Aab To Yah Dekhna Hai Umar Bhar
Bujh Rahi Hai wo Aag Jise Wo Jalakar Chale Gaye…


उस से मिलते ही यह एहसास हुवा था मुझको फ़राज़
ये वही शख्स है जो लम्बी जुदाई देगा


Uss Se Milte Hi Yeh Ehsas Huwa Tha Mujhko Faraz
Ye Wohi Shaks Hai Jo Lambi Judai De Ga

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *