Kabr Me Dil Dhadkta Raha

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा

मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी
कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा


Mohabbat Mujhe Thi Usi Se Sanam
Yado Mein Usaki Ye Dil Tadapta Raha

Maut Bhi Meri Chahat Ko Rok Na Saki
Kabr Mein Bhi Yah Dil Dhadkta Raha


emotional Breakup shayari in hindi
Kabr Me Dil Dhadkta Raha

प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता

दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की
उसके बिना जिया नहीं जा सकता


Pyar Kamajor Dil Se Kiya Nahi Ja Sakta
Zahar Dushman Se Liya Nahi Ja Sakta

Dil Mein Basi Hai Ulfat Jis Pyar Ki
Usake Bina Jiya Nahi Ja Sakta


बेवाफायों की इस दुनियां में
संभलकर चलना मेरे दोस्तों

यहाँ बर्बाद करने के लिए
मुहब्बत का भी सहारा लेते हैं लोग


Bewafaiyo Ki Is Duniya Mein
Sambhalakar Chalana Mere Dosto

Yaha Barbaad Karne Ke Liye
Mohabat Ka Bhi Sahara Lete Hai Log

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *