Na Maut Milti Hai Na Zindagi

मौत मिलती है न ज़िंदगी मिलती है
ज़िन्दगी की राहों में बेबसी मिलती है

रुला देते हैं क्यों मेरे अपने
जब भी मुझे कोई ख़ुशी मिलती है


Maut Milti Hai Na Zindgi Milti Hai
Zindagi Ki Raaho Mein Bebasi Milti Hai

Rula Dete Hain Kyu Mere Apne
Jab Bhi Mujhe Koi Khushi Milti Hai


Na Maut Milti Hai Na Zindagi
Na Maut Milti Hai Na Zindagi

हसी की राह में गम मिले तो क्या करे,
वफ़ा की राह में बेवफा मिले तो क्या करे,

कैसे बचाये ज़िन्दगी को धोखेबाज़ों से
कोई मुस्कुराके धोखा दे जाये तो क्या करे


Hasi ki raah me gam mile to kya kare,
Wafa ki raah me bewafa mile to kya kare,

Kaise bachaye zindagi ko dhokebazon se
Koi muskurake dhoka de jaye to kya karein…


महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है;
ग़म छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है;

कभी हम भी उनके अज़ीज़ थे;
आज-कल ये भी उन्हें याद दिलाना पड़ता है।


Mahefil Me Kuch to Sunana Padta Hai,
Gam Chhupa Kar Muskurana Padta Hai

Kabhi Ham Bhi Unake Ajeej the
Aaj-Kal Ye Bhi Unhe Yad Dilana Padta Hai

Leave a Comment

Your email address will not be published.