Kehte Hai Bekasur Hai Hum

वो कहते हैं मजबूर हैं हम
न चाहते हुए भी दूर हैं हम
चुरा ली हैं उसने धड़कने हमारी
अब भी कहते हैं बेक़सूर हैं हम


Wo Kehte Hain Majboor Hain Hum
Na Chahte Hue Bhi Door Hainn Hum
Churali Hain Usne Dhadkane Humari
Ab Bhi Kehte Hain Bekasoor Hain Hum


Kehte Hai Bekasur Hai Hum
Kehte Hai Bekasur Hai Hum

हम पे भी वो वक़्त आया था
किसी को आँखों में बसाया था
उसी ने लूट लिया मेरा जहां
जिसे दिल की धड़कन बनाया था


Hum Pe Bhi Wo Waqt Aya Tha
Kisi Ko Aankhon Me Basaya Tha
Usi Ne Lut Liya Mera Jahaan
Jise Dil Ki Dhadkan Banaya Tha


रुलाने से पहले एक बार हँसाया होता
कसूर क्या था इस दिल को बताया होता
मिली सजा उस खता कि, जो की न हमने
काश तुमसे दिल न लगाया होता


Rulane Se Pehle Ek Baar Hansaya Hota
Kasoor Kya Tha Is Dil Ko Bataya Hota
Mili Saza Us Khata Ki Jo Ki Na Humne
Kash Tumse Dil Na Lagaya Hota

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.