Raaz Dil Ka Batate Nahi Wo

राज़ दिल का दिल में छुपाते है वो
सामने आते ही नज़र झुकाते है वो
बात करते नहीं, या होती नहीं पर
जब भी मिलते है मुस्कुराते है वो


Raaz Dil Ka Dil Mein Chupate Hai Wo
Samne Aate Hi Nazar Jhukate Hai Wo
Baat Karte Nahi, Ya Hoti Nahi
Par Jab Bhi Milte Hai Muskurate Hai Wo


Raaz Dil Ka Batate Nahi Wo
Raaz Dil Ka Batate Nahi Wo

देखो मेरी आँखों मै ख्वाब किसके हैं
देखो मेरे दिल मैं तूफ़ान किसके हैं
तुम कहते हो मेरे दिल के रास्ते से कोई नहीं गुज़रा
तो फिर यह पैरो के निशान किसके है।


Dekho Meri Aankhon Mai Khawaab Kiske Hai
Dekho Mere Dil Mai Toofan Kiske Hai
Tum Kehte Ho Mere Dil Ke Raste Se Koi Nahi Guzra
To Phir Yeh Pairon Ke Nishan Kiske Hain…


कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बे-चैनी बस बदल समझता है
तू मुझसे दूर कैसी है मैं तुझसे दूर कैसा हूँ
यह तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है।


Koi Deewana Kahta Hai Koi Pagal Samajhta Hai
Magar Dharti Ki Be-Chaini Bas Badal Samajhta Hai
Tu Mujhse Dur Kaisi Hai Main Tujhse Dur Kaisa Hun
Yeh Tera Dil Samajhta Hai Ya Mera Dil Samajhta Hai

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.