Khuda Aise Logo Se Milata Kyu Hai

दोस्ती की वफादारी में गम का अँधेरा आता क्यों है,
जिसे हमने चाहा वो हमे रुलाते क्यों है,
अगर वो मेरे नसीब में नहीं,
तो ख़ुदा ऐसे लोगो से मिलाता क्यों है…


Dosti Ki Wafadari Me Gum Ka Andhera Aata Kyu Hai,
Jise Humne Chaha Wo Hume Rulata Kyu Hai,
Agar Wo Mere Nasib Mei Nahi,
To Khuda Aise Logo Se Milata Kyu Hai…


Khuda Aise Logo Se Milata Kyu Hai
Khuda Aise Logo Se Milata Kyu Hai

ज़िन्दगी तेरे बिन अधूरी है
न जाने कियु तेरे मेरे बीच ये दुरी है
सोचता हो कभी दिल से भुला दो तुझको
पर किया करू तेरी एक मुसकुटाहट ही मेरी कमजोरी है


zindagi tere bin adhuri hai
najane kiyu tere mere bich ye duri hai
Sonchta ho kabhi dil se bhula do tujhko
per kiya karu teri ek muskutahat hi meri kamzuri hai…


हम अगर आपसे मिल नहीं पाते
ऐसा नहीं के आप हमें याद नहीं आते
माना की जहान के सब रिश्ते निभाए नहीं जाते
पर जो बस जाते है दिल में वो भुलाये नहीं जाते।


Hum agar aapse mil nahi paatay
Esha nahin kay aap humein yaad nahin aate
Mana ka jahaan kay sab rishtey nibahaye nahin jatey
Par jo bas jatay hai dil mein wo bhulaye nahin jatay…

Leave a Comment

Your email address will not be published.