Safar Hai Magar Manjil Nahi

बस के उस कंडेक्टर की तरह
हो गयी है ज़िन्दगी हमारी,
के सफर तो रोज़ करते हैं……
पर मंज़िल कोई नहीं होती…..!!!


Bus ke us condecter ki tarha
Ho gayi hai zindagi hamari,
ke safar to roz karte hain……
par manzil koi nahi hoti…..!!!


Safar Hai Magar Manjil Nahi
Safar Hai Magar Manjil Nahi

छू ले आसमान,
ज़मींन की तू तलाश न कर
मज़ा ले ले ज़िन्दगी का ,
खुशियों की तू तलाश ना कर
गमो से दूर होकर,
तेरी तकदीर भी बदल जायेगी
मुस्कुराना सिख ले,
उसकी वजह की तलाश ना कर…


Chhu le aasmaan,
Zamin ki tu talash Na kar
Mazaa le le zindagi kaa ,
Khusiyon ki tu talash naa kar
Gamo se door hokar,
Teri takdeer bhi badal jaayegi
Muskurana sikh le,
Uski Wajah ki talash naa kar…


सोचा था तड़पायेंगे हम उन्हें,
किसी और का नाम लेके जलायेगें उन्हें,
फिर सोचा मैंने उन्हें तड़पाके दर्द मुझको ही होगा,
तो फिर भला किस तरह सताए हम उन्हें।


Socha tha Tadpaayenge Ham Unhe
Kisi aur ka Nam Leke Jalaayenge Unhe

Firr Socha Maine Unhe Tadpake Dard Mujhko Hi Hoga
To fir Bhala Kis Tarah Sataayenge Ham Unge

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.