Bewafai Ki Saza Hume Mili

जिंदगी में लोग मिलते है क्यों.??
मिलकर फिर इस दिल में रह जाते है क्यों..??
जब इन्हे दूर ही होना होता है..
तो फिर इस दिल के पास आते ही है क्यों..??


Zindgi me log milte hai Kyu.?
milkar fir is dil me reh jate hai Kyu..?
jab inhe door hi hona hota h..,
to fir is dil ke pas aate hi hai Kyu..??


Bewafai Ki Saza Hume Mili
Bewafai Ki Saza Hume Mili

बेवफाई उन्होंने की, सजा हमें मिली,
प्यार हमने किया, गुनाह उनसे हुए,
चोट उससे लगी तो दर्द मुझे हुआ,
घाव तो उसके भर गए, पर निशान मेरे बाकी रह गए


Bewafai Unhone ki Saja Hume Mili,
Pyaar humne kiya, Gunah unse Hue,
Chot usse lagi to Dard mujhe hua,
Ghav to uske bhar gye,
Par Nisan mere Baaki Reh Gye


वो जो अपना था हमसे है खफा,
पता नहीं किससे हुयी थी क्या खता,
बे-वजह दिल नहीं तूतटा किसी का,
तुम थे या हम थे बेवफा…


Wo Jo Apna Tha Humse Hai Khafa,
Pata Nahi Kis Se Huyi Thi Kya Khata,
Be-Wajah Dil Nahi Tut-Taa Kisi Ka,
Tum The Ya Hum The Bewafa…

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published.